बारिश लेते आना – दर्शन रावल

दर्शन रावल के नए गाने बारिश लेते आना के लिरिक्स हिंदी में

आती हो तो बारिश लेते आना,
जी भरके रोने को दिल करता है,

रहती है ये ख़ाहिश होंठों पर ही,
जब भी ये दिल मेरा जो भरता है,

कुछ खाब हैं लिखे खतों में ,
तुमको सौंप दूँ,
इस दर्द की अमीन पे मैं खुद को रौंप दूँ,

वक़्त की थी हमसे कुछ नाराज़गी,
कह ना सके हम वो बातें आज भी,
जिनको लिए हम तुम हो हाय जुदा।

फिर भी वह लम्हे तुम लेते आना,
आधे अधूरे से जो छूटे थे,

तारे भी वो सारे लेते आना
जो हमने देखा था की टूटे थे ।
कुछ चल रहा है साथ-साथ,
और है कुछ थमा,
काम बह रह हैए आस-पास,
और है कुछ जमा।

आती हो तो बारिश लेते आना
जी भर के रोने का दिल करता है,
रहती है ये ख़ाहिश होंठों पर ही,
जब भी ये दिल मेरा जो भरता है ॥