TUJHE BHULNA TO CHAHA LEKIN BHULA NA PAYE (HINDI) LYRICS – ROCHAK KOHLI | JUBIN NAUTIYAL

Tujhe Bhoolna To Chaha Lekin Bhula Na Paye Hindi Lyrics Jubin Nautiyal
Get the lyrics for ‘Tujhe Bhoolna To Chaha Lekin Bhula Na Paye Full Song’ in Hindi fonts. Rochak Kohli is the composer, and Jubin Nautiyal has sung the track. Below are the Tujhe Bhulna To Chaha Lekin Bhula Na Paye Hindi lyrics.

Tujhe Bhoolna Toh Chaaha Music Video

ROCHAK KOHLI | TUJHE BHOOLNA TO CHAHA HINDI LYRICS | JUBIN NAUTIYAL

Read lyrics in हिन्दी

Woh Ankhein Jo Sirf Mujhe Dekhti Thi
Woh Honth Jo Sirf Mujhe Pukarte The
Un Par Kis Aur Ka Hak Bardasht Nahi Hota

Waqt Hi Kahan Tha Tumhare Pas
Ki Un Hothon Par Thehar Sako
Un Ankhon Mein Utar Sako
Ab Main Kisi Aur Ki Ho Chuki Hu

Jab Tere Kareeb The Kitne Khushnaseeb The
Ratein Sab Charagon Wali Sare Din Bhi Eid The
Chahatein Thi Chand Par Duriyon Ki Kya Fikar

Jaise Lafz Aur Batein Aise Nazdeek The
Teri Judaiyon Mein Barse Woh Naina Bhi
Sau Dard Milke Jinko Rula Na Paye

Tujhe Bhulna To Chaha Lekin Bhula Na Paye
Jitna Bhulana Chaha
Jitna Bhulana Chaha Tum Utna Yad Aye
Tujhe Bhulna To Chaha Lekin Bhula Na Paye

Jis Rat Ankhein Soye Sukun Se Woh Rat Ati Kyun Nahin
Pichle Baras Tu Bahon Se Ja Chuki
To Dil Se Jati Kyun Nahin
Han Kyun Teri Yadon Ko Ab Tak Sambhala Hai
Tasveerein Teri Hum Kyun Jala Na Payein

Tujhe Bhulna To Chala Lekin Bhula Na Paye
Jitna Bhulana Chaha
Jitna Bhulana Chaha Tum Utna Yad Aye
Tujhe Bhulna To Chaha

Bujhne Laga Hai Dil Khwabon Mein Kaise Ye
Bairan Hawayein Main Karun Oh
Ab Kiske Age Main Kholun Hatheli Ye
Kiss Se Duwayein Main Karun Oh

Koi Khuda Hai To Majbur Kyun Hai Woh
Bishde Dilon Ko Woh Kyun Mila Na Paye

Tujhe Bhulna To Chaha Lekin Bhula Na Paye
Jitna Bhulana Chaha
Jitna Bhulna Chaha Tum Utna Yad Aye
Tujhe Bhulna To Chaha

Kaun Kehta Hai Ki Bishadne Mein Mohabbat Ki Har Hai
Jo Adhura Reh Gaya Woh Bhi To Pyar Hai
Bas Wahi To Pyar Hai
Tujhe Bhulna To Chala Lekin Bhula Na Paye

TUJHE BHOOLNA TO CHAHA LEKIN BHULA NA PAYE HINDI LYRICS

वो ऑंखें जो सिर्फ मुझे देखती थीं
वो होंठ जो सिर्फ मुझे पुकारते थे
उन पर किसी और का हक बर्दाश्त नहीं होता

वक़्त ही कहाँ था तुम्हारे पास
कि उन होंठों पर ठहर सको
उन आँखों में उतर सको
अब मैं किसी और की हो चुकी हूँ

जब तेरे करीब थे कितने खुशनसीब थे
रातें सब चरागों वाली सरे दिन ही ईद थे
चाहतें ही चाँद पर दूरियों की क्या फ़िक्र
जैसे लफ़ज़ और बातें ऐसे नज़दीक थे

तेरी जुदाईयोँ में बरसे वो नैना भी
सौ दर्द मिलके जिनको रुला ना पाए

तुझे भूलना तो चाहा लेकिन भुला ना पाए
तुझे भुलाना तो चाहा लेकिन भुला ना पाए
जितना भुलाना चाहा
जितना भूलना चाहा तुम उतना याद आये
तुझे भूलना तो चाहा लेकिन भुला ना पाए

तुझे भूलना तो चाहा लेकिन भुला ना पाये
तुझे भुलाना तो चाहा लेकिन भुला ना पाये
जितना भुलाना चाहा
जितना भूलना चाहा तुम उतना याद आये
तुझे भूलना तो चाहा

जिस रात ऑंखें सोये सुकून से
वो रात आती क्यों नहीं
जिस रात ऑंखें सोये सुकून से
वो रात आती क्यों नहीं
पिशले बरस तू बाँहों से जा चुकी
तो दिल से जाती क्यों नहीं

हाँ क्यों तेरी यादों को अब तक संभाला है
तस्वीरें तेरी हम क्यों जला ना पाये

तुझे भूलना तो चाहा लेकिन भुला ना पाए
तुझे भुलाना तो चाहा लेकिन भुला ना पाए
जितना भुलाना चाहा
जितना भूलना चाहा तुम उतना याद आए
तुझे भूलना तो चाहा

बुझने लगा है दिल ख्वाबों में कैसे ये
बैरन हवाएं मैं करूँ
अब किसके आगे मैं खोलूं हथेली ये
किस्से दुवाएँ मैं करूँ

कोई खुदा है तो मजबूर क्यों है वो
बिछड़े दिलों को वो क्यों मिला ना पाये

तुझे भूलना तो चाहा लेकिन भुला ना पाये
तुझे भुलाना तो चाहा लेकिन भुला ना पाये
जितना भुलाना चाहा
जितना भूलना चाहा तुम उतना याद आये
तुझे भूलना तो चाहा

कौन कहता है कि बिछड़ने में मोहब्बत की हार है
जो अधूरा रह गया वो भी तो प्यार है
बस वही तो प्यार है
तुझे भुलाना तो चाहा लेकिन भुला ना पाये।